गांधीजी से जुड़ी कुछ झूठी बातें जिसे हम सच मान बैठे थे

5
847

“जहाँ पवित्रता है, वहीं निर्भयता है”. यह विचार राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी कि है जिन्होंने पढाई तो विदेश में की लेकिन उसका उपयोग अपने देश को स्वतंत्रता दिलाने में किया. गाँधी जी को बापू कहकर इसलिए बुलाते हैं क्योंकि उन्हें पिता का सम्मान दिया जाए. परन्तु यहाँ उनके चरित्र पर दाग लगा कर उन्हें बदनाम करने की कोशिश उनकी मृत्यु के 73 साल बाद भी जारी है. पढ़ते हैं, गांधीजी से जुड़ी कुछ झूठी बातें जिसे हम सच मान बैठे थे.

गांधीजी से जुड़ी कुछ झूठी बातें जिसे हम सच मान बैठे थे Click To Tweet

गाँधी जी को भारत ही नहीं विदेशो में भी मान्यता प्राप्त है. उनकी मृत्यु के इतने साल बाद भी आज विदेशो में गाँधी जी का नाम लेकर भारत को याद किया जाता है. शानो शौकत छोड़ अपनी पूरी ज़िन्दगी देश को समर्पित करने वाले गाँधी जी की छवि ख़राब करने में उनके अपने ही देश के लोग कोई कसर नई छोड़ रहे है.

सोशल मीडिया में वायरल का कारण?

सोशल मीडिया में हर रोज अनेको ऐसी तस्वीरें वायरल होती हैं जिनका वास्तविकता से कोई सम्बन्ध नहीं होता. इसी तरह कई लोग गाँधीजी की तस्वीरो में छेड़ छाड़ कर उन्हें बदनाम करने के अलग अलग पैतरे अपनाते रहते है. इसी क्रम में आज हम गाँधी जी की कुछ वायरल तस्वीरो की हकीकत पर रौशनी डालेंगे.

Fake Pic depicting Gandhiji dancing with a woman
Fake Pic depicting Gandhiji dancing with a woman

 

यह तस्वीर आपने कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स में देखी होगी. पहली नज़र में इस तस्वीर को देख कर शायद कोई भी धोखा खा जाए. गाँधी जी को किसी विदेशी महिला के साथ इस तरह डांस करते देख लोगो के मन में कई तरह के विचार आ सकते है जिससे लोगो के मन में बसी गाँधी के प्रति प्रेम भावना को ठेस पहुंच सकता है.

अपनी निजी जिंदगी में व्यस्त होने के कारण आम इंसान इन्हे देखकर अनदेखा कर देते है या बिना सच जाने इन पर विश्वास कर बैठते हैं. इस तरह की कई तस्वीरें वायरल कर लोग गाँधी विरोधी माहौल तैयार करने का प्रयास करते रहते है. आज की परिस्थियों को देख कर ऐसा प्रतीत होता है की इनका यह लक्ष्य कुछ हद तक कामयाब भी हुआ है.

तस्वीर की हकीकत?

अगर आपने गाँधी जी के पहनावे पर ध्यान दिया हो तो आपको ये अंदाजा लगाने में ज्यादा समय नहीं लगेगा की यह तस्वीर गाँधी जी की नहीं है. हालाकि तस्वीर को पहली बार देख गाँधी की एक हलकी झलक जरूर दिखती है जो विरोधियों के लिए तिनके का सहारा है.

गांधीजी से जुड़ी कुछ झूठी बातें जिसे हम सच मान बैठे थे Click To Tweet
Difference can be spotted in the picture
Difference can be spotted in the picture by Gandhi’s slipper and left upper body

ध्यान से देखने पर दो मुख्य अंतर दिख जाते है जिससे हम यह समझ सकते है की ये गाँधीजी नहीं है. पहला कि तस्वीर में मौजूद व्यक्ति के शरीर का ऊपरी हिस्सा गाँधी के शरीर से काफी भरा है. दूसरा, इसने पैरो में जूते पहने हुए है और गाँधी जी इस तरह के जूते नहीं पहना करते थे.

Gandhiji's Leather Slipper
Gandhiji’s Leather Slipper

गांधी एक विशेष चमड़े के जूते पहनते थे जो स्वयं द्वारा बनाए गए थे. तस्वीरों की थोड़ी सी तुलना करके भी यह बताया जा सकता है की ये फोटो गाँधी जी का चरित्र हनन करने की एक कोशिश मात्र है.

गाँधी जैसा दिखने वाला आदमी कौन?

गाँधी जी की तरह वेश-भूषा पहने हुए यह एक ऑस्ट्रेलियन एक्टर है और यह फोटो सिडनी में चल रहे एक चैरिटी गाला में कार्यक्रम का आनंद लेते समय ले ली गयी थी. एक रिपोर्ट के मुताबिक़ यह फोटो 1946 की है जब ये जनाब इस महिला के साथ नृत्य का आनंद ले रहे थे. हालांकि इस एक्टर के बारे में ज्यादा जानकारी सार्वजनिक नहीं है.

यह पहली घटना नहीं

गांधीजी से जुड़ी कुछ और झूठी बातें जिसे हम सच मान बैठे थे. इसी तरह की एक और तस्वीर है जो खूब वायरल हुई है. इस तस्वीर में गाँधी जी इन मोहतरमा के साथ दिखाए गए है. यह तस्वीर यूट्यूब सहित और कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स में वायरल है. गाँधीजी की बिलकुल इसी तरह की एक तस्वीर नेहरू जी के साथ भी है. एसोसिएटेड प्रेस के हिसाब से यह तस्वीर All-India Congress committee की एक मीटिंग की है जो July 6, 1946 को ली गयी थी. जिसे फोटोशॉप कर इस महिला की तस्वीर के साथ जोड़ दिया गया.

Did Mahatma Gandhi sleep with virgins? जैसे अश्लील... Click To Tweet
Gandhi Fake and Real pics
Gandhiji’s Fake vs Real pics

इन तस्वीरो को वायरल करने का सिलसिला कई सालो से चल रहा है इस पर गाँधी विरोधी भावना वाले लोग चुटकी लेते हुए कई अटपटे बयान देते रहते हैं. कभी डांसिंग बॉय तो कभी Did Mahatma Gandhi sleep with virgins? जैसे अश्लील वाक्यों से गाधी जी को गलत तरह से चित्रित करने के प्रयास किये जाते रहे हैं

जागो इंडिया

टेक्नोलॉजी का सदुपयोग तो हो रहा है पर दुरुपयोग करने में भी लोग पीछे नहीं हैं. जिन महापुरुषों ने अपना पूरा जीवन देश को समर्पित कर दिया अब उनका इस तरह से मजाक बनाया जाना एक विडम्बना ही है. गाँधी जी न कभी विरोध से डरे न विरोधयों से पर आज विरोध के नाम पर उनका चरित्र हनन किया जाना इस देश का दुर्भाग्य है.

इस लोगो का प्रयोजन पूरा होने का एक प्रमुख कारण हम भारतीय ही हैं जो किसी चित्र या समाचार को देख या सुन कर उससे जुडी हकीकत जानने के बजाए उस पर यकीन करके अपनी धारणा तैयार कर लेते हैं. ऐसी नाशुक्र, सोइ हुई जनता से क्या बनेगा “अपना भारत महान”? जवाब हम सब जानते है! तो यह थी गांधीजी से जुड़ी कुछ झूठी बातें जिसे हम सच मान बैठे थे.

Author: Team The Rising India

Keywords: Fake news, Gandhiji, Nehru, Fake pictures, All India Congress Committee, BJP

5 टिप्पणी

  1. […] बनाने का गौरव हुआ. बीआरओ (BRO) ने यह सडक़ पूर्वी लद्दाख के उमलिंगला पास में समुद्र तल से करीब 19 हजार 300 फीट की […]

  2. […] रात ऐसा भी आया, जब देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को जगने और गंभीरता से सोचने पर मजबूर […]

  3. […] रात ऐसा भी आया, जब देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को जगने और गंभीरता से सोचने पर मजबूर […]

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here