कोरोना का सबसे खतरनाक रूप ‘डेल्टा प्लस’ कैसे मचा रहा तबाही !

0
370
Delta Plus Feature Image
Delta Plus Corona Variant

अभी तो कोरोना का कहर थमा भी नहीं है और बाज़ारो में हल चल, लोगो की लापरवाही बढ़ने लगी है. यूँ तो इस साल शहनाइयों की गूंज ज्यादा सुनाई भी नई पड़ी लेकिन कोरोना का प्रकोप धीमा पड़ते ही लोग शादी, पार्टी जैसे कार्यक्रमों के आनंद लेने भी लगे है. मार्केट, मॉल और सडको पर लोग ऐसे दिखाई देने लगे हैं मानो कोरोना हमसे कबका हार गया हो. ‘डेल्टा प्लस’ से तबाही को रोकना बहुत जरूरी है!

क्या हम कुछ भी नहीं सीख पाए इस बीते साल में? मंजर यह है की न ही किसी को मास्क लगाने की सुध है, न ही सोशल डिस्टेन्सिंग की चिंता. फिर सेनिटाइज़र से हाथ साफ़ करने और वैक्सीन लगवाने से क्या ही हो.

जहाँ हम अपनी उड़ते परिंदो वाली आज़ादी की वापसी का आनंद लेने में इतने मग्न है वहीँ कोरोना के एक और जानलेवा प्रकार ने भारत में दस्तक दे दी है. खबरों की माने तो ये नया वैरिएंट घातक और जानलेवा हो सकता है. पढ़ते है कि आखिर कोरोना का सबसे खतरनाक रूप ‘डेल्टा प्लस’ कैसे मचा रहा तबाही! 

क्या है ‘डेल्टा प्लस’? ‘डेल्टा प्लस’ से तबाही कैसे रुकेगी?

सुनने में मैथमेटिक्स के किसी प्रतीक सा लगने वाला कोरोना का यह प्रकार यूरोप में सबसे पहले मिला और इसने भारत में अपना प्रकोप फैलाना शुरू भी कर दिया है जो कि आने वाली तबाही का संकेत हो सकता है. ‘डेल्टा प्लस’ भारत में सबसे पहले दिखे डेल्टा वैरिएंट का उप वंश है और डेल्टा वैरिएंट ही भारत में दूसरी लहार का कारन भी बना था. डेल्टा प्लस वैरिएंट ने k147N नामके स्पाइक प्रोटीन म्युटेशन का अधिग्रहड़ किया है जो की साउथ अफ्रीका के बीटा म्युटेंट से भी पाया गया है.

भारत में कितना फ़ैल चूका है ‘डेल्टा प्लस’ ?

भारत के स्वास्थ्य विभाग के डाटा की माने तो अब तक में इसके लगभग 50 से भी ज्यादा केसेस आ चुके है, और आशंका है की ये संख्या आगे तेजी से बढ़ सकती है. भारत के अलावा अन्य देशो में भी ये वैरिएंट तबाही मचा रहा है. इस श्रेड़ी में अमेरिका, ब्रिटैन और पोर्तगाल सबसे ज्यादा केसेस के साथ सबसे आगे है.

Pic Alliance Community Healtcare 2
Pic – Alliance Community Healthcare

कोरोना का सबसे खतरनाक रूप ‘डेल्टा प्लस’ कैसे मचा रहा तबाही यह किसी से नहीं छुपा है. वही भारत में अभी महाराष्ट्र, केरल और मध्यप्रदेश में यह पैर पसार रहा है. कुछ केसेस पंजाब, आँध्रप्रदेश और तमिलनाडु में भी दर्ज किये गए हैं.

अच्छी बात यह है की अभी तक इस वैरिएंट की वजह से भारत में केवल 1 मृत्यु दर्ज हुई है. गौरतलब है की लोगो की लापरवाही और प्रसाशन की अनदेखी से ये अकड़ा रफ़्तार पकड़ने में समय नहीं लगाएगा. 

डेल्टा प्लस कितना ख़तरनाक ?

भारत ने आधिकारिक तौर पर कोरोना के इस नए घातक प्रकार को “चिंता का विषय” घोषित कर दिया है, डॉक्टरों की माने तो इस नए वैरिएंट में संक्रमण के फैलने का खतरा ज्यादा है. इसके साथ ही इसमें मोनोक्लोनल एन्तिबॉडी प्रतिक्रिया में कमी की भी समस्या हो सकती है. इसके खतरे को देखते हुए महाराष्ट्र में एक्सपर्ट्स ने चिंता जताई है की तीसरी वेव, पहले और दूसरी वेव के मुकाबले जल्दी आ सकती है.

क्या कोरोना वैक्सीन बचाएगा हमे?

स्वास्थ्य मंत्री के अनुसार ये कहना अभी मुश्किल होगा की देश में अभी सबसे ज्यादा दी जाने वाली covid sheild एंड covaxin, डेल्टा वैरिएंट पर कारगर रही है. हालाँकि ये अभी भी शोध का विषय है क्यूंकि आंकड़े अभी शेयर नन्ही किये गए है.

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आई.सी.एम.आर) एवं नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी की एक स्टडी (PTI Report) के मुताबिक covidsheild और covaxin में इस नए वैरिएंट के विरुद्ध एंटीबॉडी क्षमता स्टैण्डर्ड स्ट्रैन के मुकाबले कम पाई गयी है. पर्याप्त डाटा अवेलेबल नहीं होने की वजह से पूरी तरह से कुछ भी कहा नहीं जा सकता. हालांकि आने वाले कुछ हफ्तों में डाटा स्टडी से हमारे वैज्ञानिक ये पता लगा सकेंगे.

डेल्टा प्लस से बच्चों को कितना ख़तरा?

एबीपी माजा ने बताया कि रत्नागिरी जिले के नौ डेल्टा प्लस रोगियों में से तीन बच्चे अब ठीक हो गए हैं. जिला सर्जन के अनुसार डेल्टा प्लस संक्रमण से उबरने वाले बच्चों को अब घर भेज दिया गया है. यह खबर तमाम परिवार वालों के लिए एक राहत भरा जरूर है.

पिछले शुक्रवार को, महाराष्ट्र में डेल्टा प्लस वैरिएंट के कारण पहली मौत रत्नागिरी जिले में हुई थी, जहां एक 80 वर्षीय महिला ने संक्रमण के कारण दम तोड़ दिया था.

यह बताने की जरुरत तो अब शायद किसी को भी नहीं है की मास्क और सोसिअल डिस्टन्सिंग ही हमे इसके प्रकोप से दूर रहने में कारगर र्सबित होगा. अब तो केवल आशा ही कर सकते हैं की हम इस नए वैरिएंट और इसकी गंभीरता पहली और दूसरी लहर से हुई बर्बादी को याद करके सावधानी रखेंगे. जैसे की कहा भी गया है “सावधानी हटी दुर्घटना घटी”.

Author : The Rising India Team

Keywords : Delta Plus, New Covid Variant, Covid-19, WHO

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here