शिकायतों के बाद, सभी मस्जिद के लाउडस्पीकरों की आवाज होंगी कम!

0
100
शिकायतों के बाद सभी मस्जिद के लाउडस्पीकरों की आवाज होंगी कम

एक रिपोर्ट के मुताबिक कुछ समय से इंडोनेशिया में अजान के लाउडस्पीकरों की तेज आवाज के विरोध में आवाजें उठ रही थीं. लोगों का कहना था कि लाउडस्पीकर की तेज आवाज उनके मानसिक स्वास्थ्य को बुरी तरह प्रभावित कर रही है. उन्हें डिप्रेशन और नींद न आने की समस्या का सामना करना पड़ रहा है. कई लोगों ने ऑनलाइन शिकायत की थी. शिकायतों के बाद, सभी मस्जिद के लाउडस्पीकरों की आवाज होंगी कम!

Officials inspecting the Loudspeaker Vol in Indonesia ( Pic AFP)
Officials inspecting the Loudspeaker Vol in Indonesia ( Pic AFP)

लोगों की सेहत का ख्याल रखते हुए इंडोनेशिया की सरकार ने अजान देने वाले लाउडस्पीकरों की आवाज कम करने का फैसला लिया है. दरअसल, इंडोनेशिया में मुस्लिम आबादी करीब 21 करोड़ है. यहां के नागरिकों की शिकायतों को ध्यान में रखते हुए अजान लाउडस्पीकरों की आवाज कम कर दी गई है. हालांकि इसकी शुरुआत इंडोनेशिया मस्जिद काउंसिल ने ही की है.

शिकायतों के बाद, सभी मस्जिद के लाउडस्पीकरों की आवाज होंगी कम! Click To Tweet

इस संबंध में इंडोनेशिया मस्जिद परिषद का कहना है कि पिछले 6 दिनों में कम से कम 70 हजार मस्जिदों के लाउडस्पीकर कम कर दिए गए हैं. तेज आवाज से परेशान लोगों ने अवसाद और चिड़चिड़ापन की शिकायत के बाद इंडोनेशिया मस्जिद परिषद के अध्यक्ष युसूफ कल्ला ने यह पहल की.

तेज आवाज़ का कारण

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इंडोनेशिया मस्जिद काउंसिल के अध्यक्ष युसूफ कल्ला ने बताया कि ज्यादातर मस्जिदों के लाउडस्पीकर अच्छे नहीं थे. ऐसे में अजान की आवाज तेज हो जाती है. परिषद ने इस काम के लिए 7 हजार तकनीशियनों को लगाया है. अब देश की करीब 70 हजार मस्जिदों के लाउडस्पीकर कम कर दिए गए हैं.

तेज आवाज एक इस्लामी परंपरा

यूसुफ का कहना है कि इसके लिए एक कमेटी भी बनाई गई है. वहीं परिषद के संयोजक अजीज का कहना है कि अजान की तेज आवाज एक इस्लामी परंपरा है, जिससे आवाज दूर-दूर तक पहुंचती है. वहीं जकार्ता की अल-इकवान मस्जिद के चेयरमैन अहमद तौफीक का कहना है कि लाउडस्पीकर की आवाज कम करना पूरी तरह से उनकी अपनी पहल है. इस पर किसी ने कोई दबाव नहीं डाला. यह सामाजिक समरसता बनाए रखने के लिए किया गया था.

अजान की तेज आवाज एक इस्लामी परंपरा है Click To Tweet

क्या है ईशनिंदा कानून?

इंडोनेशिया में ईशनिंदा कानून है. ईशनिंदा कानून में इस्लाम या अन्य धार्मिक हस्तियों का अपमान करने के लिए मौत की सजा का प्रावधान है.

Protest againt Blasphemy Law
Protest against Blasphemy Law

अज़ान के लाउडस्पीकर का विरोध करने वालों पर भी ईशनिंदा का कानून लागू किया जा सकता है. अजान की तेज आवाज का विरोध करने पर 4 बच्चों की मां को डेढ़ साल की सजा सुनाई गई है.

 

जर्मनी, सऊदी भी बना रहा कानून

इतना ही नहीं जर्मनी में भी लाउडस्पीकर के जरिए अजान का विरोध मुखर हो गया है. देश के प्रमुख शहरों में लोग अजान के लिए मस्जिद में लगे लाउडस्पीकर का विरोध कर रहे हैं. सऊदी ने भी अजान की तेज आवाज को कम करने पे विमर्श कर रहा है. शिकायतों के बाद, सभी मस्जिद के लाउडस्पीकरों की आवाज होंगी कम सऊदी में भी!

शिकायतों के बाद, सभी मस्जिद के लाउडस्पीकरों की आवाज होंगी कम! Click To Tweet

इंडोनेशिया में दुनिया के किसी भी अन्य देश की तुलना में बड़ी मुस्लिम आबादी है. लगभग 2029 मिलियन मुस्लिम (2011 में इंडोनेशिया की कुल आबादी का 87.2%) आबादी हैं. जनसांख्यिकीय डेटा के आधार पर, 99% इंडोनेशियाई मुसलमान सुन्नी और लगभग दस लाख शिया अहमदी मुसलमान हैं.

Author: Team The Rising India

Keywords: Azan Sound, Mosque loudspeakers volume, Indonesia

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here